Mark Zuckerberg Biography

दोस्तों आज की दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं। जो सोचते हैं कि जो उम्र में छोटे होते हैं ना वह कुछ भी बड़ा काम नहीं कर सकते और ना ही सोच सकते हैं। और ना ही उसे करने की काबिलियत रखते हैं। इसी बात को गलत कर दिखाया है एक ऐसा शख्स ने जिसने लोगों की सोच को बदल कर रख दिया है। उनका नाम है Mark Zuckerberg जिन्होंने साबित कर दिया है। कि कम उम्र के लोग भी एक बड़ी सफलता पा सकते हैं।

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं। फेसबुक के CEO Mark Zuckerberg के बारे मैं जिसने आज सारी दुनिया को जोड़ कर रखा है। छोटी सी उम्र में इतना बड़ा काम किया जो बहुत ही काबिलियत तारीफ है।

Mark Zuckerberg जो कि पूरे विश्व की सबसे बड़ी यानी popular social networking site है  Facebook |

दोस्तों आज इस लेख में हम जानेंगे कि मार्क जुकरबर्ग की life story के बारे मैं और कैसे कब फेसबुक का निर्माण किया।

मार्क जुकरबर्ग की Success Life Story In Hindi

Mark Zuckerberg का जन्म 14 मई 1984 को New York में स्थित Dobbs ferry मैं हुआ था। उनके घर में माता-पिता सहित तीन बहने और थी मार्क जुकरबर्ग दूसरी स्थान में है। और घर के इकलौते बेटे भी हैं मार्क ज़ुकेरबर्ग के पिता का नाम Edward Zuckerberg हैं। और वह एक psychiatrist हैं। उनके घर के पास ही में पिताजी का एक dentist का clinic है। जहां पर वह अपने मरीजों को देखते हैं। मार्क जुकरबर्ग बचपन से ही बहुत तेज और हुनरहार बैठे रहे हैं। जब वह छोटे स्कूल में थे तभी से उन्हें programming में बहुत interest रहता था। उनके पिताजी उनको Atari basic programming. पढ़ाया करते थे।

बचपन से ही होनहार

Mark Zuckerberg पढ़ाई में इतना तेज थे कि वह 12 साल की उम्र में ही एक messenger बना डाला था। जिसका नाम उन्होंने Zucknet रखा था। Software के जरिए घर के सभी लोग मिलकर computer से एक साथ जुड़कर messages को घर के अंदर और पिता के dental clinic में transfer करके बातें किया करते थे।

उनके पिताजी भी इस सॉफ्टवेयर को अपने कंप्यूटर में install करके कि अपने क्लीनिक में इस्तेमाल किया करते थे। और उनकी Reception उस मैसेंजर के जरिए उन्हें नए मरीज आने की खबर देती थी।

इस काबिलियत को देखकर मार्क जुकरबर्ग के पिताजी ने मार्क जुकरबर्ग को और बढ़ावा दिया और उनके लिए कंप्यूटर टीचर को बुलाया जो उन्हें programming. सिखाते थे मार्क इतना तेजी से programming सीख लेते थे। कि उनके टीचर उन उन्हें देख कर हैरान हो जाते थे इतनी छोटी सी उम्र मैं बच्चे खेलने कूदने के अलावा पढ़ाई पर भी ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। उस उम्र में मार्क जुकरबर्ग सिर्फ मस्ती करने के लिए अपने दोस्तों के लिए video game बनाया करते थे। मार्क जुकरबर्ग अपने हाईस्कूल के समय से बहुत ‌ talented और topper student थे हाई स्कूल के दौरान ही मार्ग जुकरबर्ग ने एक mp3 मीडिया प्लेयर बनाया था जिसका नाम उन्होंने synapse रखा था। यह एक ऐसा player था जो playlist अपने आप ही तैयार करता था। इसका इस्तेमाल करने वाला user सुनना चाहता था।

IT giant software कंपनी Microsoft and Ola इस मीडिया प्लेयर में रुचि दिखाने लगी और इस प्लेयर को खरीदने के लिए उन्होंने मार्क जुकरबर्ग को बहुत से पैसे ऑफर किए लेकिन मार्क जुकरबर्ग ने उनके offer को accept करने से मना कर दिया।

मार्ग जुकरबर्ग की पहली साईट

मार्ग जुकरबर्ग ने अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद आगे की पढ़ाई उन्होंने Harvard University से किया वहां से मार्क जुकरबर्ग अपनी intelligence की वजह से बहुत popular हो गए थे। और software developer के रूप मैं जाने जाने लगे थे साल 2003 में उन्होंने एक site बनाया था जिसका नाम Facemash था Mark Zuckerberg. इस site को बनाने के लिए अपने Harvard University को hack कर लिया था और वहां से University करने वाले सभी students के profile pictures को अपने site मैं डालने के लिए चोरी किया और एक ऐसा program बनाया था। जिसको जोकि अपने आप ही किसी दो लड़कों या दो लड़कियों की फोटो अपने आप ही select करता था और उसमें कौन सबसे ज्यादा सुंदर दिख रहा है उस पर voting करने के लिए कहता था।

इस site पर आने वाले सभी लोग University के ही student थे और वही लोग वोट देते थे इस site की popularity इतनी बढ़ने लगी थी कि बहुत से स्टूडेंट्स इसी site को access करने लगे थे। और इसी तरह से traffic ज्यादा होने की वजह से University का sarovar crash हो गया था। इस वजह से Mark Zuckerberg को principal और teachers से बहुत डांट पड़ी थी और उस site को बंद करवा दिया गया था।

Facebook की शुरुआत।

Facemash की incidents. से कुछ समय पहले ही एक Harvard के student divya Narendra Mark के पास एक social networking site का idea लेकर आए थे। और उनके साथ 2 और पाटनर भी थे। Divya ने Mark Zuckerberg को बताया कि वह इस site को university के students के के लिए बनवाना चाहता हूं जिसका नाम Harvard connection होगा। इसका नाम बाद में बदल कर Connectu रखा गया था उन्होंने कहा था कि इस site से जुड़े सभी मेंबर्स को internet के जरिए अपने personal photos information और useful links एक दूसरे के साथ share कर सकते हैं।

Mark Zuckerberg ने इस idea को सुनकर तुरंत ही उन्हें हां कह दिया और उनके साथ जुड़कर काम करना शुरु कर दिया। इस project के ऊपर काम करने के दौरान ही उन्होंने अपना खुद का एक social networking site शुरू करने का idea भी सोच लिया था।

सन 2004 में Mark Zuckerberg ने डोमेन नेम theFacebook.com registered कर लिया था। दुनिया भर के सभी लोग इसको Facebook के नाम से जानते हैं। फेसबुक का इस्तेमाल उस समय सिर्फ उनके university के students ही करते थे। और साल 2005 में धीरे-धीरे USA. के सभी universities के students Facebook का इस्तेमाल करने लगे और धीरे-धीरे Facebook पे अपनी profile बनाना शुरू कर दिया।

Facebook की popularity लगातार बढ़ती ही जा रही थी। या देखकर Mark Zuckerberg ने यह decide किया कि Facebook का इस्तेमाल अब वह सिर्फ students के लिए ही नहीं बल्कि दुनिया भर के सभी लोगों Facebook. का इस्तेमाल कर पाएंगे। इसके लिए Mark Zuckerberg ने अपनी graduation की पढ़ाई को बीच में ही छोड़ दिया था। और अपना पूरा ध्यान अपने project पर देने लगे। और आज हम सभी को पता ही है। की Facebook दुनिया का सबसे बड़ा platform है।

Facebook की खासियत।

Facebook से हम लोग एक दूसरे को friends बना लेते हैं। और अपने पुराने बिछड़े हुए दोस्तों से दोबारा मिल पाते हैं। और उनसे बातें कर पाते हैं। और अपना ग्रुप बनाकर सभी दोस्त उसमें एक साथ मिलकर बातें कर पाते हैं। दुनिया भर में कहीं भी वह लोग रहे हम उन लोगों से बातें कर पाएंगे। और उनको देख पाएंगे। इन्हीं सभी खासियतओं को देखकर दुनिया भर के सभी लोग Facebook पे खींचे चले आ रहे हैं। यही सबसे बड़ा कारण है। कि आज दुनिया भर में Facebook लोकप्रियता इतनी बढ़ गई है। और आजकल के time में तो आप फेसबुक से पैसे भी कमा सकते हैं।

Mark Zuckerberg ने जब फेसबुक बनाया था तब उनकी age मात्र 19 साल थी इसीलिए आज दुनिया के सबसे बड़े youngest billionaires में से एक हैं। साल 2010 मैं इनको time person of the year का award भी मिल था।

उपयोगी लिंक

सरकारी योजनायेंहोम जॉब्सपैसे कमाने वाले एप
मोटिवेशनलफुल फॉर्मबैंक लोन
ऑनलाइन जॉब्सस्वास्थ्य टिप्सबिजनेस आईडिया

By Jitendra Arora

- एडिटर, मोटिवेटर, क्रिएटर | - वेब & एप डेवलपर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *