[email protected]
October 27, 2021
11 11 11 AM
ताज़ा खबर
विधिक साक्षरता शिविर में सरकारी योजनाओं की दी गई जानकारी | Vidhik Saksharta Shivir kashipur Uttarakhand डिजिटल हेल्थ कार्ड कैसे बनायें | Digital Health Card Kaise Banaye बिजली से भी चलेगी मारुति कार | Electric Car Kit in India योगेन्द्र गंगवार बने प्रदेश संगठन महामंत्री (उ.प्र.) Tamilrockers free Movie Download or Not | तमिल रोकर्स से फ्री मूवी डाउनलोड करें या नहीं ? [tamilyogi.uk] मेरी फसल मेरा ब्यौरा योजना | Meri Fasal Mera Byora Haryana खेलों में भारत कैसे बनेगा नंबर 1 | Olympics Games in India & Medal स्थाई लोक अदालत का उद्देश्य मुकदमों का शीघ्र निस्तारण : उमेश जोशी राजस्थान की बेरोजगारी भत्ता योजना | Berojgari Bhatta Rajasthan Yojana हाई कोर्ट अधिवक्ता के साथ इंस्पेक्टर की अभद्रता । काशीपुर बार एसोसिएशन ने कि बर्खास्त करने की मांग।

यह है देश का सबसे वीवीआईपी पेड़, जिस पर खर्च होते हैं लाखों रुपये!

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल और विदिशा के बीच सलामतपुर की पहाड़ी पर लगा है देश का शायद सबसे पहला ऐसा वीवीआईपी पेड़ जिसकी 24 घंटे चार गार्ड निगरानी करते हैं. इसके लिए खास तौर पर पानी के टैंकर का इंतजाम है.
सौ एकड़ की पहाड़ी पर लोहे की लगभग 15 फीट ऊंची जाली के अंदर लहलहाता है यह वीवीआईपी बोधि वृक्ष. 24 घंटे इसकी सुरक्षा-देखभाल के लिए परमेश्वर तिवारी सहित चार होमगार्डों की तैनाती रहती है.
पेड़ की सुरक्षा में तैनात परमेश्वर तिवारी ने कहा ”सितंबर 2012 से मेरी तैनाती है, कभी यहां 4-5 गार्ड रहते हैं. बहुत सारे लोग पहले इसे देखने आते थे अब कुछ कम हुए हैं.” सिंचाई के लिए यहां सांची नगरपालिका ने अलग से पानी के टैंकर का इंतजाम किया है. पेड़ को बीमारी से बचाने के लिए कृषि विभाग के अधिकारी हर हफ्ते दौरा करते हैं. यह सब होता है जिला कलेक्टर की निगरानी में.
इलाके के एसडीएम वरुण अवस्थी ने कहा सुरक्षा के लिए 1-4 गार्ड लगाए हैं. पानी की कमी न हो इसका ध्यान रखा जाता है. पूरी पहाड़ी को बौद्ध विश्वविद्यालय के लिए आवंटित किया गया है. पूरा क्षेत्र बौद्धिस्ट सर्किट के तौर पर विकसित किया जा रहा है.
21 सितंबर, 2012 को श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे ने बोधि वृक्ष को रोपा था. बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए इसका खास महत्व है. बौद्ध धर्मगुरू चंद्ररतन ने कहा तथागत बुद्ध ने बोधगया में इसी पेड़ के नीचे ज्ञान प्राप्त किया था. भारत से सम्राट अशोक इसी पेड़ की शाखा श्रीलंका ले गए थे. उसे अनुराधापुरम में लगाया था, उसी को सांची बौद्ध विश्वविद्यालय की जमीन पर लगाया गया.
इस पेड़ का एक पत्ता भी सूखे तो प्रशासन चौकन्ना हो जाता है. पेड़ तक पहुंचने के लिए भोपाल-विदिशा हाईवे से पहाड़ी तक पक्की सड़क भी बनाई गई है.
वीडियो
पेड़ के रखरखाव में हर साल लगभग 12-15 लाख रुपये खर्च होते हैं, उस राज्य में जहां थोड़े से कर्ज के लिए 51 किसान खुदकुशी कर चुके हैं. यह और बात है कि जिस विश्वविद्यालय के नाम पर बोधि वृक्ष को रोपा गया, पांच साल बाद उसकी बाउंड्री तक टूट गई है. यूनिवर्सिटी को लगभग 20 लाख का किराया देकर निजी भवन में चलाया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *