Aalu Ke Fayde

क्या आप जानते हैं कि जिस आलू को आप सब्जी के रूप में प्रयोग करते हैं। वह आलू औषधि की भी भूमिका निभा सकता है आपके जीवन में। तो चलिए आज के लेख में हम आलू के एक नए रूप से परिचित हों। औषधि के रूप में भी अब इसका लाभ कैसे उठाएं। आपको बता दें की आलू को इंग्लिश में Potato कहा जाता है |

औषधि के रूप में आलू के प्रयोग

दोस्तों वैसे तो हमारे देश में हर घर में आलू खाया जाता है | लेकिन क्या आप जानते हैं  कि Aalu Ke Fayde क्या क्या होते हैं | घरेलु इलाज या आयुर्वेद में आलू को बहुत लाभकारी बताया गया है | वैसे तो आलू हमें कैलोरी, प्रोटीन व् अन्य पोषण तत्व देता है लेकिन इसमें बहुत से औषधि गुण भी होते हैं | इनमें से आज हम आपको आलू के कुछ औषधि गुण बताने जा रहे हैं |

१.खांसी में आलू का प्रयोग:-

यदि खांसी से परेशान हैं तो आलू के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से आपकी खांसी ठीक हो सकती है।

२.चेहरे के लिए भी आलू उपयोगी:-

चेहरे पर दाग पड़ गए हो या पिंपल्स निकल आए हो चाहे चेहरे की कैसे भी परेशानी हो आलू को पेस्ट बनाकर लगाएं इससे आपको लाभ होगा। आपके चेहरे की परेशानियों के दूर होने के साथ चेहरे पर रौनक आएगी आपका चेहरा चमक उठेगा।

३. जल जाने पर क्या करें :-

अचानक यदि आप किसी प्रकार से जल जाए और आपके पास किसी प्रकार की दवाई ना हो उस पर लगाने के लिए तो आलू को पेस्ट करके जले हुए स्थान पर रख दें । या आलू को काटकर उसका छोटा सा टुकड़ा उस स्थान पर घीसे जब तक आपका जलन छूट न जाए इससे आपको फफोले नहीं पड़ेंगे और वह जला हुआ स्थान स्वतः ही ठीक हो जाएगा।

४. पुरुषों के गुप्त रोग का समाधान आलू:-

पुरूषों के गुप्त रोग ( योनि का बढ़ जाना) में आलू के पत्तों को पानी में नमक डालकर उबालने के बाद उससे सिकाई करने पर बड़ी ही सहजता से रोग मुक्ति संभव है ।

५. जंघाओं की नसें कमजोर हो जाने पर आलू सिद्ध हो सकता है हितकारी:-

जंघाओं की नसें कमजोर हो जाने पर चलने फिरने में तकलीफ होने लगती है। ऐसे में आलू के रस को निकालकर नित्य तीन-चार चम्मच पिया जाए। तो इस परेशानी से भी यह आलू छुटकारा दिला सकता है। परंतु यह आवश्यक नहीं है कि चार चम्मच रस आपको एक ही बार में पीने हैं। आप इसे एक चम्मच करके दिन भर में 4 बार पी सकते हैं।

६.आलू के रस त्वचा के लिए उपयोगी:-

तथा यह आलू का रस पीने से दाद व घमोरियां आदि भी नहीं होंगी।

७.वक्ष के जलन में आलू गुणकारी:-

गर्मियों में शरीर में पानी की कमी हो जाने के कारण या अम्ल के कारण वक्ष में या हृदय में जलन जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है इसके लिए भी आलू के रस लाभकारी है। इसके उपयोग से यह समस्या ठीक हो जाती है।

८. मोतियाबिंद के लिए आलू के उपयोग:-

आलू को साफ स्थान पर घीस कर महीन (उसमें खुरदुरा पर नहीं होना चाहिए) पीस घर काजल की तरह आंखों में लगाएं सावधानीपूर्वक उसके बाद थोड़ी देर तक अपने नेत्रों को बंद ही रखें इस उपाय से बड़ा लाभ देखने को मिलेगा।

९. हाथ के रूखे पन व पैरों के फटने पर क्या करें :-

कई लोगों के हाथ फट जाते हैं वह खुरदुरे हो जाते हैं। पैरों में भी विमायियां फट जाती है। उनको काम करने में बड़ा ही कष्ट देता है इसके लिए आलू को उबालकर उसे छील कर जैतून के तेल से उसे गिला सा पेस्ट बना लें और उसका लेप करें थोड़ी देर बाद उस लेप को धो लें। ऐसा कुछ दिनों तक करते रहे आपके फटे हाथ पैर स्वस्थ हो जाएंगे।

१०. सूजन के लिए आलू का प्रयोग:-

कई लोगों के पाओं में सूजन हो जाता है। ऐसा कई बार अधिक बैठे रहने के कारण तो कई बार काफी चल लेने से भी हो जाती है। इसके लिए आलू को उबालकर उसके पानी से सूजन वाले स्थान को सेकने से सूजन दूर हो जाता है।

११. आलू के बीज किसी टेबलेट से कम नहीं है:-

आपके सिर का दर्द आलू के बीज को खाने से ठीक उसी प्रकार समाप्त हो सकता है। जैसे कोई अंग्रेजी गोली करती है।

उपयोगी लिंक

सरकारी योजनायेंहोम जॉब्सपैसे कमाने वाले एप
मोटिवेशनलफुल फॉर्मबैंक लोन
ऑनलाइन जॉब्सस्वास्थ्य टिप्सबिजनेस आईडिया

By Jitendra Arora

- एडिटर, मोटिवेटर, क्रिएटर | - वेब & एप डेवलपर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *