Lines Formed on Water Bottle in Hindi : प्लास्टिक की बोतलों में टेढ़ी-मेढ़ी लाइने क्यों बनाई गई होती है

आज के समय में पानी पीने के साधन के रूप में बोतल सर्वाधिक उपयोग किया जाने वाला पात्र बन चुका है । हमारी दिनचर्या में शायद ही कोई दिन होता हो जिसमें हमें प्लास्टिक की बोतलों का यूज़ ना करना पड़े ।हम सभी ज्यादातर उपयोग ग्लास या फिर बोतल का करते हैं पानी पीने के लिए | तो क्या आपके भी मन में यह प्रश्न उठा है कभी कि आखिर इन बोतलों पर टेढ़ी-मेढ़ी रेखाएं अलग-अलग ढंग की क्यों बनी होती है । चाहे बोतलों की वह लकीरें भले ही भिन्न-भिन्न बनाई गई हो लेकिन बनी अवश्य होती है ।आखिर ऐसा क्यों क्या यह लकीरें बोतल की सुंदरता बढ़ाने के लिए डिजाइन के रूप में बनाया जाता है l तो आईए जानते हैं क्या है इसके पीछे की वजह । यह रोचक जानकारी आज के हमारे आर्टिकल में प्राप्त होगी।

क्या कारण है बोतलों पर अलग-अलग प्रकार के लकीरे बने होने का (Lines on Water Bottel in Hindi)

यह लकीरें बोतलों में डिजाइन के लिए बनाई जाती है ऐसा कहना गलत नहीं होगा । लेकिन फिर भी यह इस प्रश्न का मूल उत्तर नहीं है । बल्कि इसके पीछे का कारण और भी प्रभावी और महत्वपूर्ण है । यह लकीरे ना केवल बोतलों की सुंदरता को बढ़ाता है | बल्कि यह बोतलों को मजबूती भी प्रदान करता है । क्योंकि पीने का पानी भरे जाने वाले बोतलों को बनाने के लिए हार्ड प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं किया जाता | ज्यादातर बोतल सॉफ्ट प्लास्टिक से बने होते हैं । जिसके कारण उस पर यह लकीरें बनाई जाती है ।यदि यह लकीरें ना बनाई जाए तो बोतल पानी के भार से मुड़कर फट सकता है l इसलिए इस पर बनी होती है यह लकीरें इसके साथ ही यह लकीरें बोतलों को सही से पकड़ने में भी मदद करती है जिसके कारण यह हाथ से फिसलते नहीं । तो यह थी जानकारी बोतलों पर बनी लकीरों को बनाने के कारण की।

Read Also :

Share

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *