मज़बूत सिस्टम से होगा देश का विकास – Strong System Development for Growing

Strong System Development

हमारा सिस्टम – व्यवस्था : Strong System Development for Growing

देवभूमि उत्तराखंड एक पर्वतीय राज्य है, और इसका गठन भी यहाँ के विकास के लिए किया गया था| यहाँ के पर्वत, नदियाँ, संस्कृति, भाषा आदि के विकास और रक्षा के लिए नए राज्य का निर्माण किया गया था | लेकिन किसी भी देश या राज्य का विकास उसके मजबूत सिस्टम या व्यवस्था से हो सकता है | हमारे उत्तराखंड का अभी जो सिस्टम है उसमे बहुत सी कमियां हैं | हम एक एक करके यहाँ के सिस्टम की बात करेंगे और उसमे जो कमियां है और उन्हें कैसे दूर किया जा सकता है उसपर प्रकाश डालेंगे |

  • शिक्षा व्यवस्था – Strong System Development in Education

किसी भी देश या उसके राज्य की नीव उसकी शिक्षा व्यवस्था से रखी जाती है| अगर आपकी शिक्षा व्यवथा मजबूत है तो आपका राज्य जरुर विकास करता है | उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों का सिस्टम बहुत अच्छा नहीं हैं | इसमें बड़े बदलाव की जरुरत है | आज की दुनियाँ कहाँ से कहाँ तक पहुँच गई और उसकी अनुसार चलकर ही हम उन्नति कर सकते हैं | इसीलिए सरकारी स्कुल हो या निजी हमें ऐसी शिक्षा देनी चाहिये की पढ़ने वाला हर बच्चा दुनियां के बच्चों के साथ कदम से कदम मिलकर चल सके |

आज उत्तराखंड का नागरिक अपने बच्चों को निजी स्कुलों में पढ़ाना चाहता है | क्योंकि वहां की व्यवस्था जैसे – शिक्षक, वातावरण, स्कूल की ईमारत, साफ़ सफाई, अंग्रेजी माध्यम, कंप्यूटर, खेल के अवसर आदि की का सिस्टम बहुत ही अच्छा होता है | लेकिन इनकी फ़ीस इतनी अधिक होती है की गरीब आदमी यहाँ अपने बच्चों को पढ़ा ही नहीं सकता |

अगर यह सभी सुविधाएँ सरकारी स्कूलों में मिल जाएँ या सरकार निजी स्कूलों की फ़ीस पर नियंत्रण कर सके तो हम अपने राज्य के बच्चों को विश्व स्तर की शिक्षा दे सकते हैं | हमारी सरकार ने जगह जगह सरकारी स्कूल खोले हुए हैं लेकिन उनकी दशा पर ध्यान नहीं दिया जाता | अगर सरकार एक एरिया में ज्यादा स्कूल ना खोलकर एक ही टॉप क्लास स्कुल खोल दे तो बच्चों को बहुत लाभ मिल सकता है | टॉप क्लास स्कूल में टीचर भी पूरे होंगे, स्टाफ भी पूरा होगा, सुविधाओं पर भी ध्यान दिया जा सकेगा | और जो बच्चे इस स्कूल से दूर होंगे उन्हें घर से लाने और लेजाने के लिए बस आदि की व्यवस्था की जा सकती है |

आपने देखा होगा कि एक स्कूल में छात्रों की संख्या 5 या 20 के आस पास है और वहां के टीचरों और स्टाफ पर लाखों रूपये खर्च कर दिए जाते हैं , स्कूल की मरम्मत पर अलग से खर्च आता है | इसीलिए सरकार को अधिक स्कूल खोलने के बजाये एक ही टॉप लेवल का स्कूल खोलना चाहिए |

  • राजनैतिक सिस्टम में बदलाव की जरुरत – Strong System Development in Politics

हमारे देश की राजनैतिक व्यवस्था में भी बदलाव की बहुती जरुरी है | राजनीति में ऐसे लोग ही आने चाहिए जो समाज के लिए काम करने के लिए ही बने हों | उदहारण के लिए आप प्रधानमंत्री मोदी जी को ले सकते हैं जिन्होंने देश और समाज के लिए अपना घर बार ही छोड़ दिया | और 24 घंटे देश की सेवा में लगे रहते हैं | ऐसे और भी नेता है जो सिर्फ देश के लिए सोचते हैं |

राजनैतिक व्यवस्था में एक परिवर्तन यह भी होना चाहिए की टिकिट देते समय सभी पार्टियों को यह ख्याल रखना चाहिए की उनकी पार्टी में जीतने वाले उम्मीदवारों में पेशेवर भी हों | जैसे सभी पार्टी में एक डॉक्टर भी हो, एक इंजिनियर भी हो, एक वकील भी हो | क्योंकि जब उस पार्टी की सरकार बनेगी तो उसके बनाये जाने वाले मंत्री भी उसी पेशे से सम्बबंधित हों जिसका विभाग है | जब एक सरकार का स्वास्थ्य मंत्री एक डॉक्टर होगा तो वह अच्छी तरह समझ सकेगा और जनता की भलाई के लिए काम करेगा | ऐसे ही अगर कानून मंत्री ने वकालत की होगी तो वह भी कानून व्यवस्था को ठीक तरह चला सकेगा | ऐसे ही अगर हमारा शिक्षा मंत्री पढ़ा लिखा या पीएचडी आदि किया हुआ होगा तो वह हमारी शिक्षा के स्तर को बहुत उपर लेकर जा सकेगा |

  • सुरक्षा का सिस्टम कैसा हो ?

बच्चे हों या बुजुर्ग, महिला हो या पुरुष और गरीब हो या अमीर हम सब को सुरक्षा की जरूरत होती है। इसीलिए हमारे देश की सुरक्षा का सिस्टम बुलेट प्रूफ जैकेट से भी मजबूत होना चाहिए।

सबसे पहले अगर महिलाओं की सुरक्षा की ओर देखें तो सबसे अधिक इस पर काम करने की जरूरत है। अगर हम देश की आधी आबादी को ही सुरक्षित नहीं कर सके तो हमें अपने देश पर गर्व कैसे हो सकता है।

महिलाओं की सुरक्षा का दायित्व सरकार, प्रशासन, पुलिस के साथ साथ साथ सामाजिक संस्थाओं और समाज के हर व्यक्ति के ऊपर है। अगर कोई महिला अपने को असुरक्षित महसूस करती है तो उसके लिए हम सबको तैयार रहना चाहिए। अगर महिला मुसीबत के वक्त पुलिस को संपर्क करने में असहज महसूस कर रही हो तो उसके पास समाज या सामाजिक संस्थाओं या मानव अधिकार या से संपर्क करने का विकल्प होना बहुत जरूरी है। क्योंकि पुलिस हर समय- हर स्थान पर नही पहुंच सकती लेकिन समाज के अच्छे लोग, सामाजिक संस्थायें या राजनैतिक पार्देटी के कार्शयकर्त्ता  हर गांव, मोहल्ले और गलियों में मौजूद हैं। वह जरूरत पड़ने पर मुसीबत में पड़ी महिला की मदद तुरन्त कर सकते हैं। बस इसके लिए हमें एक ऐसे सोशल सिस्टम का निर्माण करना होगा जो केवल फेसबुक या व्हाटसअप पर ही नहीं बल्कि ज़मीन पर उतरकर किसी महिला की सहायता करने के लिए आगे आये।

  • उत्तराखंड टूरिज्म – Strong System Development fin Tourism

उत्तराखंड दर्शन एप पर आपको उत्तराखंड के उत्तराखंड के सौंदर्य के साथ साथ यहाँ की संस्कृति , प्राचीन धार्मिक परम्पराओं , धार्मिक स्थलों, दैवीय स्थलों, संस्कृति , प्रकार्तिक धरोहर की सम्पूर्ण जानकारी देने की कोशिश करेंगे | क्योंकि पर्यटन केवल पहाड़ों पर घूमना या बर्फ देखना ही नहीं होता बल्कि उस राज्य की संस्कृति, भाषा, वेश-भूषा, खानपान को समझना भी होता है| हम यहाँ वह सभी जानकारी देने की कोशिश करेंगे जिससे आप और आपके बच्चे उत्तराखंड को समझ सके | देश ही नहीं बल्कि विदेश के लोग भी यहाँ को जाने और पहचाने | रोजगार को बढावा देने के लिए भी यह सब जरुरी है | क्योक्नी उत्तराखंड में युवाओं द्वारा तेज गति से पलायन हो रहा है | जिसे हमें रोकना ही चाहिए | उत्तराखंड में पर्यटन होगा तो रोजगार की संभावनाये बढेंगी और यहाँ रोजगार के अवसर होंगे तो कौन देवभूमि के स्वर्ग को छोड़ कर रोजी-रोटी के लिए बाहर जायगा |

आप भी अपने सुझाव हमें दे सकते हैं जिससे हम यहाँ के पर्यटन, संस्कृति, रोजगार को बढावा दे सकें |

इन लोकप्रिय ख़बरों को भी पढ़ें :

online-paise-kaise-kamaye-banner22.jpg

Leave a Reply