देश का सपना खुशहाल भारत – Desh Ka Sapna Happy India

Desh Ka Sapna Happy

 खुद में वह बदलाव  लाइएजो  दुनिया में आप देखना चाहते  हैं -महात्मा गाँधी

देश की सबसे बड़ी समस्या-Desh Ka Sapna Happy India

आज हमारे देश की सबसे बड़ी समस्या बेरोजगारी और गरीबी है | बड़े बड़े नेता और सरकारें आते गए हैं और चले गए | बड़े बड़े भाषण देने वाले नेता भी गरीबी और बेरोजगारी की समस्या का हल नहीं निकाल पाये | इस समस्या का निदान करने वाला ना कोई स्कूल बन सका और ना ही कोई कोलेज | इस समस्या को उठाने वाले करोड़ों लोग मिल जायंगे लेकिन इसका हल क्या होगा आज तक कोई नहीं बता सका | एक कहावत है कि अगर आप समस्या का हल नहीं निकाल सकते तो आप खुद एक समस्या हैं |

समस्या का समाधान बनिये – 

लोग कहते हैं की स्कूलों और कॉलेजों में फीस के नाम पर लूटमार होती है – तो इसका हल है की आप हिम्मत कीजिये और अपना स्कूल या कोलेज खोलिए जिसमे यह लूट मारी बंद हो | अगर स्कुल खोलने की हिम्मत नहीं है तो अपने घर में एक छोटा सा कोचिंग सेंटर ही खोल लीजिये जिसमे गरीब बच्चों को सस्ते में अछी शिक्षा दे सके | जब तक आप दूसरों के काम में कमियां निकालते रहेंगे तब तक आपका विकास नहीं हो सकता |

ऐसे ही कुछ लोग कहते हैं निजी अस्पताल भी इलाज के नाम पर लूटमार करते हैं | तो भैया आप खुद डॉक्टर क्यों नहीं बन जाते या अपना अस्पताल क्यों नहीं खोल सकते | या अपने बच्चों को डॉक्टर बनाने की हिम्मत जुटाइये और उनसे कहिये की सस्ता इलाज करे | क्या आप ऐसा सोच सकते हैं | इतनी हिम्मत जूटा सकते हैं |

अगर नहीं तो आप खुद एक समस्या हैं | दूसरों की कमियां निकालने वाले केवल अपना समय बर्बाद करते हैं और जो समय की कीमत नहीं पहचान सकता उसको समय ही बर्बाद कर देता है |

समस्या बताने वाले नहीं – रोज़गार देने वाले चाहिए

हमने भी आप सब की कमियां गिना दी | लेकिन अगर हम इसका हल नहीं ढूंढ सके तो हम खुद भी एक समस्या हैं |

आजकल देश की राजधानी दिल्ली में जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय (JNU) की चर्चा तो आप लोगों ने खूब सुनी होगी | JNU के विद्यार्थी भी इस समस्या से गुज़र रहे है,क्योंकि वह गरीबी से आजादी के नारे लगाते हैं, बेरोज़गारी से आजादी के नारे लगाते हैं लेकिन उसका हल नहीं निकाल सकते | यह लोग अच्छे भाषण दे सकते है, अच्छे तर्क और विचार दे सकते हैं लेकिन खुद ही बेरोजगार हैं तो देश को बेरोज़गारी से कैसे दूर सकते हैं |

यह केवल नेता बन सकते हैं| जो हमारे देश में लाखों की संख्या में पहले से ही हैं |

रोज़गार देने वाले स्कुल – कोलेजों और बिजनिस

इस समय देश को नेताओं से ज्यादा रोज़गार देने वाले लोगों की जरुरत है, रोज़गार देने वाले स्कुल – कोलेजों की जरुरत है | देश में गरीबी दूर करने वालों की जरुरत है | देश में नए बिजनिस मॉडल देने वालों की जरुरत है |

ऐसे लोग समाज से ही निकल सकते हैं | बस हमें उन्हें मौका देने की जरुरत है उनके कौशल को सुधारने की जरुरत है | हमारे देश में प्रतिभा की कमी नहीं है | जिसका उदाहरण आप देख सकते है की दुनियां की बड़ी बड़ी कम्पनियों में हिन्दुस्तान के लोग बड़ी बड़ी जिम्मेदारी संभाल रहे हैं | गूगल हो या माइक्रोसॉफ्ट इन कंपनियों के मुख्य अधिकारी हमारे देश से ही हैं |

बेरोजगारी और गरीबी का हल कैसे हो ? Desh Ka Sapna Happy

गरीबी पूरी तरह से बेरोजगारी पर टिकी एक समस्या है और इसे मिटाने के लिए हमें लोगों को रोज़गार ही देना होगा | गरीबों को पैसे बांटकर या फ्री में कुछ देने से कुछ नहीं होगा |

अगर हम बेरोजगारी की समस्या का हल ढूंढ ले तो गरीबी की समस्या अपने आप ही हल हो सकती है | इसके लिए हमें एक नए बिजनिस मॉडल की आवश्यकता है | जिसमे करोड़ों लोगों को काम मिले |

एक ऐसा बिजनिस जिसमे नौकरी करने वाला भी कम्पनी का मालिक हो, मतलब सेलरी के अतिरिक्त उसे कम्पनी के लाभ में से भी हिस्सा मिले | उसके बच्चों को कंपनी की तरफ से ही सस्त्ती और टिकाऊ शिक्षा मिले और स्वास्थ्य सेवा मिले | पौषक और बिना मिलावट का खाना मिले |

देश और खुद पर विश्वास करें

  • सबसे पहले आपको यह विश्वास करना पड़ेगा की आपका देश एक महान देश है,
  • आपकी भाषा में वह सब करने की शक्ति है जो अन्य भाषाओँ में है
  • और आपके समाज के लोगों में भी प्रतिभा है जो कुछ भी कर सकते हैं |

इसके बाद आपको यह देखना है की आप क्या कर सकते हैं या आप क्या करना चाहते हैं | आपको और क्या  सीखने की आवश्यकता है | इसके अतिरिक्त आपको ये भी देखना होगा की आपके परिवार में, मित्रो में या आपके आसपास गाँव या शहर में कौनसे ऐसे लोग हैं जिनमे कुछ करने का हुनर है या कोई प्रतिभा है| हमें ऐसे लाखों करोड़ों लोगों को एक करना होगा जो गरीबी और बेरोजगारी की समस्या को दूर करने में अपना योगदान दे सकते हैं|

और जब ऐसे लोग एक साथ आयंगे और एक नया बिजनिस मॉडल तैयार होगा तो सभी मिलकर अपनी बेरोजगारी और दुसरे करोड़ों लोगों की इस समस्या को दूर कर पायंगे |

बिजनिस मॉडल –  हमारा नहीं सबका -Desh Ka Sapna 

यह बिजनिस मॉडल कोई भी शुरू कर सकता है | क्योंकि हमारा मकसद अपना खुद का बिजनिस खड़ा करना ही नहीं है बल्कि गरीबी और बेरोजगारी की समस्या हल करना है | आज स्कुल कॉलेजों में लाखों युवा पढाई कर रहे है वह सब इस बिजनिस मोडल का हिस्सा बन सकते हैं | या हमारे साथ जुड़ सकते हैं |

और इस फॉर्म को भरकर भी आप हमसे जुड़ सकते हैं |

यहाँ क्लिक करें |

जय हिन्द – वन्दे मातरम

इन लोकप्रिय ख़बरों को भी पढ़ें :

Leave a Reply