Ram Mandir: इस मुस्लिम को भी मिला राम मंदिर का अक्षत, जानिए क्यों दिया गया- Ram Mandir Movement

Ram Mandir Pran Pratishtha: 22 जनवरी साल 2024 में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम रखा गया है, जिसकी तैयारी कई दिनों से की जा रही है। राम मंदिर आंदोलन से जुड़े हुए कई लोगों को इस कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता भी दिया जा चुका है। ऐसे मे एक इनविटेशन काफी ज्यादा चर्चा का विषय बना हुआ है, क्योंकि यह इनविटेशन किसी हिंदू को नहीं बल्कि एक मुस्लिम व्यक्ति को दिया गया है जो कि उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में रहते हैं।

जी हां! हम बात कर रहे हैं मोहम्मद हबीब के बारे में जो राम मंदिर बनने से काफी ज्यादा खुश है और उससे भी ज्यादा खुश इसलिए है, क्योंकि इन्हें राम मंदिर के समारोह में शामिल होने का Nyota राम मंदिर कमेटी के द्वारा भेजा गया है। अयोध्या से लोगों के घर पर राम मंदिर का अक्षत दिया जा रहा है। यह अच्छत मोहम्मद हबीब को भी प्राप्त हुआ है।

मोहम्मद हबीब वह व्यक्ति है जो साल 1992 में राम मंदिर के आंदोलन में शामिल रहे थे। अच्छत प्राप्त होते ही उन्हें अतीत की कई घटना याद आ गई और वह भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि वह सिर्फ 22 जनवरी को ही नहीं बल्कि समय-समय पर राम मंदिर का दर्शन करने के लिए जाते रहेंगे।

1992 में कार सेवकों के साथ गए थे अयोध्या

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के जमालपुर क्षेत्र में जाफराबाद नाम का एक इलाका है। यहीं पर मोहम्मद हबीब रहते हैं। जानकारी के अनुसार साल 1992 में उत्तर प्रदेश के अयोध्या में वह तकरीबन 50 राम भक्तों के साथ गए थे। राम मंदिर निर्माण हो जाने के बाद जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता उनके घर पर चावल लेकर के पहुंचे, तो इन्होंने गुजरे हुए कल को याद किया।

जब मौका मिलेगा भगवान राम का दर्शन करने जाएंगे

मीडिया से बात करते हुए मोहम्मद हबीब के द्वारा बताया गया कि, जब उन्हें कभी भी मौका मिलेगा तो वह जरूर ही अयोध्या में भगवान श्री राम का दर्शन करने के लिए जाएंगे और वह एक ही बार नहीं बल्कि बार-बार भगवान श्री राम के मंदिर का दर्शन करने के लिए अयोध्या पहुंचेंगे। हबीब के द्वारा कहा गया है कि, मेरे जैसे कई लोग हैं जिनका सपना श्री राम मंदिर बनने का था जो अब पूरा हो चुका है और हमें अब काफी ज्यादा अच्छा महसूस हो रहा है।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *