Rajiv Gandhi Foundation online form

राजीव गांधी फाउंडेशन

राजीव गांधी फाउंडेशन की स्थापना पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के विज़न को पूरा करने के लिए सन 1991 में की गई थी। राजीव जी ने एक ऐसे आधुनिक भारत का सपना देखा था जो धर्मनिरपेक्ष हो, स्वतंत्र और प्रगतिशील हो l उनका विजन था की हमारा देश एक ऐसा देश हो जो समानता के लोकतांत्रिक सिद्धांत की बुनियाद पर खड़ा हो, और विकास को इसकी समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं को एक साथ लेकर चलता हो। उन्होंने पूर्वाग्रह से अलग एक शिक्षित लोगों वाले देश की कल्पना की थी; जहाँ महिलाएँ बराबरी के दर्जे के साथ हर कार्य में भाग लेती हों l उनका मानना था की एक ऐसा राष्ट्र बने जिसके पास सभी नागरिकों, खास कर वंचितों को सशक्त बनाने के लिए अवसर और इच्छाशक्ति हो। इसीलिए राजीव गांधी फाउंडेशन का स्थापना की गई l सन 1991 से 2009 तक फाउंडेशन ने समाज के सम्रद्ध विकास के लिए बहुत से कार्य किये l

प्रमुख कार्य :

1. स्वास्थ्य, साक्षरता,
2. स्वास्थ्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी,
3. महिला और बाल विकास,

4. निःशक्तजनों को सहायता – राजीव गांधी एक्सेस टू ऑपॉर्च्यूनिटीज़ प्रोग्राम
5. पंचायती राज संस्थाओं,
6. प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन,
7. पुस्तकालयों आदि l

क्या है राजीव गांधी एक्सेस टू ऑपॉर्च्यूनिटीज़ प्रोग्राम?

राजीव गाँधी एक्सेस टू ऑपॉर्च्यूनिटीज़ प्रोग्राम का का अर्थ है शारीरिक रूप से निःशक्त लोगों के सामाजिक और आर्थिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए अवसर प्रदान करना l क्योंकि विस्श्व स्वास्थ्य संगठन का अनुमान है कि दुनिया भर में 6 करोड़ से अधिक लाख लोग विभिन्न प्रकार की निःशक्तता के साथ जीवन जीते हैं। और भारत में 2011 की जनगणना के अनुसार इनकी संख्या 2 करोड़ 68 लाख के आसपास है l यह निःशक्तजन विभिन्न प्रकार की सुविधाओं से वंचित रहते है l जिसमें शिक्षा, रोजगार, पुनर्वास की सुविधा और अन्य बुनियादी सेवाओं की पहुँच भी शामिल है।

राजीव गांधी फाउंडेशन विश्वास करता है कि किसी शारीरिक रूप से निःशक्त व्यक्ति की गतिशीलता बढ़ जाने से उसकी शिक्षा और रोजगार के अवसरों तक उनकी पहुँच भी बढ़ जाती है। इसी विश्वास के आधार पर फाउंडेशन ने 1992 में ‘राजीव गांधी एक्सेस टू ऑपॉर्च्यूनिटीज़’ (RGATO) कार्यक्रम की शुरुआत की थी । इस कार्यक्रम के माध्यम से फाउंडेशन युवा निःशक्तजनों को विशेष रूप से डिजाइन किए गए वाहन प्रदान करता है।

राजीव गांधी एक्सेस टू ऑपॉर्च्यूनिटीज़ चयन के नियम व् शर्ते :

1. आयु : 18-35 l
2. आय: 3,500-10,000 रुपये प्रति माह l
3. निःशक्तता का स्तर : 60% या इससे अधिक l
4. निचले अंगों की निःशक्तता लेकिन ड्राइव करने की क्षमता वाले l
5. किसी अधिकृत विभाग या एजेंसी से निःशक्तता प्रमाण पत्र l
6. अतीत में यह सहायता प्राप्त नहीं किए हों

इस कार्यक्रम में निन्न्लिखित व्यक्तियों को प्राथमिकता दी जाती –

1. छात्र l
2. महिलाएँ l
3. जिनके परिवार में और भी सदस्य निःशक्त हों
4. ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोग l
5. जिनके पास कोई सरकारी नौकरी नहीं है l

राजीव गांधी फाउंडेशन ऑनलाइन फॉर्म

इस कार्यक्रम का आयोजन हर वर्ष किया जाता है l जिसका फॉर्म आप फाउंडेशन की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं www.rgfindia.org

By Jitendra Arora

- एडिटर, मोटिवेटर, क्रिएटर | - वेब & एप डेवलपर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *