Search Results for kashipur

उत्तराखंड -भारत में कब होगा भ्रष्टाचार का अंत ?

मोदी सरकार को आय हुए 9 महीने बीत गए लेकिन देश के सभी राज्यों में भ्रष्टाचार पर कोई रोक नहीं लग सकी।  अगर ऐसे ही चलता रहा तो बीजेपी सरकार को भविष्य में कोई नहीं बचा सकेगा। मोदी जी ने बड़े स्तर पर तो कुछ लगाम लगाईं है, लेकिन आम जनता का सामना तो छोटे स्तर के अधिकारीयों से पढता है। इसीलिए आम जनता को रहत देनी है तो जनता से जुड़े विभागों में हो रहे भरष्टाचार पर लगाम लगानी होगी। जैसे तहसील, नगर निगम, विभाग, जल निगम आदि।  उत्तराखंड में पाँचों लोकसभा सीटें बीजेपी के पास हैं लेकिन यहाँ के सांसद भी भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए कोई बड़ी कोशिश नहीं करते दिखाई देते। अगर उत्तराखंड के 2017  के विधान सभा चुनावों में बीजेपी को जीत हासिल करनी है तो बीजेपी नेताओं को छोटे स्तर पर हो रहे भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए काम करने होंगे। इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें उत्तराखंड -भारत में कब होगा भ्रष्टाचार का अंत ?

दुश्मन की गोलियों का सामना हम करेंगे, आज़ाद हैं, आज़ाद ही रहेंगे : चन्द्रशेखर आज़ाद

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में देश के कई क्रांतिकारी वीर-सपूतों की याद आज भी हमारी रुह में जोश और देशप्रेम की एक लहर पैदा कर देती है. एक वह समय था जब लोग अपना सब कुछ छोड़कर देश को आजाद कराने के लिए बलिदान देने को तैयार रहते थे और एक आज का समय है जब अपने ही देश के नेता अपनी ही जनता को मार कर खाने पर तुले हैं. देशभक्ति की जो मिसाल हमारे देश के क्रांतिकारियों ने पैदा की थी अगर उसे आग की तरह फैलाया जाता तो संभव था आजादी हमें जल्दी मिल जाती. वीरता और पराक्रम की कहानी हमारे देश के वीर क्रांतिकारियों ने रखी थी वह आजादी की लड़ाई की विशेष कड़ी थी जिसके बिना आजादी मिलना नामुमकिन था. देशप्रेम, वीरता और साहस की एक ऐसी ही मिसाल थे शहीद क्रांतिकारी चन्द्रशेखर आजाद. 25 साल की उम्र में भारत माता के लिए शहीद होने वाले इस महापुरुष के बारें में जितना कहा जाए उतना कम है. आज ही के दिन साल 1931 में चन्द्रशेखर आजाद शहीद हुए थे. स्वतंत्रता सेनानी चन्द्रशेखर आज़ाद जी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजली। काकोरी ट्रेन डकैती और साण्डर्स की हत्या में शामिल निर्भय क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद, का जन्म 23 जुलाई, 1906 को हुआ था। चंद्रशेखर आजाद का वास्तविक नाम चंद्रशेखर सीताराम तिवारी था।  आज के नौजवानो को आज़ाद जैसे देश भक्तों से बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता है।   इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें दुश्मन की गोलियों का सामना हम करेंगे, आज़ाद हैं, आज़ाद ही रहेंगे : चन्द्रशेखर आज़ाद

वीर सावरकर- पुण्यतिथि – 26 फरवरी

“यह धरा मेरी यह गगन मेरा, इसके वास्ते शरीर का कण-कण मेरा”                                                                                                                  इन पंक्तियों को चरितार्थ करने वाले महान क्रांतिकारी  वीर सावरकर की 26 फरवरी को पुण्यतिथि है।लेकिन  लगता नहीं देश के नीति-निर्माता या मीडिया इस महान आत्मा को श्रद्धांजलि देने की रस्म अदा करेंगे। लेकिन चलिए हम तो उनके आदर्शों से प्रेरणा लेने का प्रयास करें।  भारतभूमि को स्वतंत्र कराने में जाने कितने ही लोगों ने अपने जीवन को न्योछावर किया था।  लेकिन उनमें से कितने लोगों को शायद हम इतिहास के पन्नों में ही दफ़न रहने देना चाहते हैं। इन महान आत्माओं में से ही एक थे विनायक दामोदर सावरकर। जिनकी पुण्य तिथि के अवसर आज हम  उनको शत-शत नमन करते  हैं ।                    क्रांतिकारियों के मुकुटमणि और हिंदुत्व के प्रणेता वीर सावरकर का जन्म 26  मई, सन 1983  को नासिक जिले के भगूर ग्राम में हुआ था।  इनके पिता श्री दामोदर सावरकर एवं माता राधाबाई दोनों ही धार्मिक और हिंदुत्व विचारों के थे।  जिसका विनायक दामोदर के जीवन पर व्यापक प्रभाव पड़ा। छात्र जीवन के समय में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के विचारों से वीर सावरकर ने मातृभूमि को स्वतंत्र कराने की प्रेरणा ली। सावरकर ने…

और पढ़ें वीर सावरकर- पुण्यतिथि – 26 फरवरी

मोदी सरकार – अमीरों की या गरीबों की ?

केंद्र में मोदी सरकार को आये कई  महीने हो गए है लेकिन देश का  गरीब और आम जनता  पूछ रही है   की उसको अब तक क्या मिला ? गरीब किसानो की जमीन लेने का  कानून बनाया जा रहा है और अमीर लोगो के पास हज़ारों एकड़ जमीन खाली  पड़ी  है ? भू – माफियाओं  पर कोई कार्यवाही क्यों नहीं हो रही  ? पूँजीपतियों की कई फैक्ट्रियां बंद क्यों पड़ी है ? विदेश में जमा कालेधन पर तो सरकार का ज़ोर नहीं चल रहा लेकिन देश में कालेधन पर कार्यवाही क्यों नहीं ?  पूँजी पतियों ने अपना काल धन जमीनों और सोने पर लगाया हुआ है,  उनको क्यों नहीं पकड़ा जा रहा ? देश में पैसे वालो की खाली ज़मीन पर कारखाने खोलने या खेती करने का कानून क्यों नहीं बनाया जाता ? बंजर भूमि  का उपयोग क्यों किया जा रहा है ? फसलों के लिए जमीन कम हो जाएगी तो खाने का सामान कहाँ से लाओगे ? हर शहर में भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है क्यों ? अमीर और अमीर होता जा रहा हैऔर  गरीब और गरीब क्यों ? सरकारी नौकरों के बच्चों को सरकारी स्कूल में पढ़ाने का कानून क्यों नहीं बनाया जाता ? सरकारी नौकरों का इलाज़ सरकारी अस्पताल में कराने का कानून क्यों नहीं बनाया जाता ? गरीब जनता के साथ ही क्यों धोखा किया जा रहा है ? इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें मोदी सरकार – अमीरों की या गरीबों की ?

भूमि अधिग्रहण बिल – देश का फायदा या नुकसान ?

भूमि अधिग्रहण बिल पर मोदी सरकार के विरोध में अन्ना हजारें और किसानो ने आज भी जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन किया। दूर दूर से किसानों  और विभिन्न सामाजिक संगठनो ने प्रदर्शन में भाग लिया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल भी उनका समर्थन करने पहुंचे। अन्ना और किसानो का कहना ही की यह बिल किसान विरोधी है और इसमें बदलाव किये जाए। किसानो की  जमीन खरीदने के बजाय उन्हें लीज़ पर दिया जाए।और किसी से जबरदस्ती जमीन ना ली जाये। उधर मोदी सरकार का कहना है की भूमि अधिग्रहण से सबका विकास होगा। किसानो को अस्पताल और स्कूल-कोलेज मिल सकेंगे। सडको के निर्माण से किसानो की फसलो को बाज़ार में पहुँचाने में सहायता मिलेगी। इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें भूमि अधिग्रहण बिल – देश का फायदा या नुकसान ?

राना बने काशीपुर के एस डी एम्

काशीपुर, पी एस राना सितारगंज से स्थानांतरण होकर काशीपुर के एस डी एम् बने। उन्होंने एस डी एम् का कार्यभार ग्रहण कर लिया  और कार्य का कामकाज निपटाने में जुट गए।  वह इस वक्त काशीपुर के अलावा बाजपुर और गदरपुर के एस डी एम् का कार्य भी देख रहे हैं। इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें राना बने काशीपुर के एस डी एम्

अन्ना आंदोलन को मिला दिल्ली के मुख्यमंत्री का साथ

बी जे पी सरकार के बनाये  भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ समाज सेवी अन्ना हजारे जी ने आज जंतर-मंतर पर  धरना प्रदर्शन किया।  जिसमे विभिन्न समाज सेवियों, किसानो और हजारों लोगों ने भाग लिया। दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी अन्ना जी से मिलने पहुंचे। और भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ धरने के समर्थन में कल मंगलवार को जंतर मंतर पर साथ बैठने का वादा किया।  इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

और पढ़ें अन्ना आंदोलन को मिला दिल्ली के मुख्यमंत्री का साथ

एक बार जरुर सोचें….

 1. इंडिया ऐसा देश है, जहां हिरन का शिकार करने पर कडी सजा का प्रावधान है, लेकिन गौमाता ( जिसे हिन्दू मां मानते हैं ) की हत्या पर सब्सिडी दी जाती है ….. 2. इंडिया दुनियां का एक मात्र देश है, जहाँ दूसरे धर्म के गुरुओं की हर गलत बात की छुपाया जाता है, और अपने धर्म गुरुओं को बिना प्रूफ के जेल में डाला जाता है …. 3. इंडिया दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है. जिसमें सरहद पर तैनात सिपाही को एकसाल तक छुट्टी नहीं मिलती लेकिन जेल में बंद संजय दत्त को हर 2 महीने से पैरोल पर छुट्टी मिल जाती है ….. 4. इंडिया दुनिया का ऐसा देश है, जहाँ लाखों अरबो का घोटाला करने वाले आजाद घूमते है लेकिन जिसपे आरोप साबित नहीं हुआ है कैंसर पीडित ऐसी साध्वी को जेल मे रखते है …. 5. इंडिया ऐसा देश है, जहाँ अदालत और प्रूफ से पहले मीडिया आरोप लगा देती है और उसे आरोपी भी घोषित कर देती है …. 6. इंडिया दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है, जो अपने देश में बैठे गद्दारो पर कोई कारवाई नहीं करता ….. 7. इंडिया के सेकुलर नेता ऐसे है, जो आतंकवादियों को सम्मान देते है और राष्ट्रवादीयों को गालियां देते है ….. 8. इंडिया दुनिया का ऐसा देश है, जहाँ बाहरी घुसपैठियों का घर बैठे राशन कार्ड और वोटर कार्ड बन जाते है लेकिन इन सब के लिए चक्कर काटते काटते अपने देश के आम नागरिक की चप्पल घिस जाती है ….. 9. इंडिया दुनिया ऐसा देश है…

और पढ़ें एक बार जरुर सोचें….