Chanakya Niti: ऐसे लोगों के पास नहीं रहता पैसा, चाणक्य नीति में बताया है कारण

Chanakya Niti in Hindi 2024 : जैसा कि आप जानते हैं कि, आचार्य चाणक्य के द्वारा ही चाणक्य नीति नाम का एक ऐसा ग्रंथ बनाया गया था, जिसमें जो भी बातें लिखी गई थी वह आज भी सही साबित होती है। चाणक्य नीति में जो बातें लिखी गई है। यदि उसे जीवन में अपनाया जाए तो व्यक्ति के जीवन स्तर में अच्छा खासा सुधार हो सकता है। चाणक्य नीति में यह बात भी बताई गई है कि, ऐसे कौन से लोग हैं जिनके हाथ में पैसा नहीं टिकता है। चलिए जानते हैं कि आचार्य चाणक्य के अनुसार ऐसे लोग कौन हैं।

किसकी जेब में नहीं रुकता पैसा

चाणक्य नीति में यह बताया गया है कि, जो व्यक्ति हमेशा गंदा रहता है और अपनी साफ सफाई का ध्यान नहीं रखता है, गंदे कपड़े पहनता है, उसके पास कभी भी माता लक्ष्मी नहीं टिकती है, क्योंकि माता लक्ष्मी जी को सफाई पसंद है। इसलिए वह ऐसे ही लोगों के पास जाती है या फिर ऐसे ही लोगों के घर में विराजमान होती है, जहां पर स्वच्छता होती है। गंदगी से माता लक्ष्मी हमेशा दूर रहती है।

कौन-सी आदतें बनाती हैं गरीब

आचार्य चाणक्य ने यह भी बताया है कि, जो व्यक्ति हमेशा सिर्फ खाने पीने के बारे में ही सोचता है। ऐसे व्यक्ति को भी धन की कमी का सामना करना पड़ता है। साथ ही चाणक्य जी ने यह भी बताया हुआ है कि, किसी व्यक्ति के द्वारा अगर सूरज निकलने से पहले ही अपने बिस्तर से नहीं उठा जाता है, तो उसके पास भी धन ज्यादा नहीं टिकता है। इसलिए ऐसे लोगों को आज ही अपनी आदतों में बदलाव करना चाहिए।

क्या काम कभी नहीं करना चाहिए

लगभग सभी लोगों के द्वारा पैसा कमाने के लिए तगड़ी मेहनत करी जाती है, परंतु जब ऐसे लोगों के पास पैसा आने लगता है, तो फिर वह अपने बुरे दिन को भूल जाते हैं और फिर पैसे की बर्बादी करने लगते हैं। ऐसे लोगों के द्वारा जो धन कमाया जाता है, उनका धन फिर खराब होने लगता है।

चाणक्य नीति के अनुसार अगर किसी व्यक्ति के द्वारा पैसे का घमंड किया जाता है तो इससे माता लक्ष्मी जी नाराज होती है साथ ही घमंड करने से व्यक्ति के पारिवारिक रिश्ते भी खराब होते हैं। लोग आपसे दूरी बनाना चालू कर देते हैं। अहंकार होने पर व्यक्ति की बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है और उसके सारे पैसे का नाश हो जाता है। इसलिए कभी भी पैसा आने पर घमंड ना करें।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *