नई दिल्ली: राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की जयंती पर लोग उनके जीवन से जुड़ी बातें Google पर सर्च कर रहे हैं. लोग देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री रहे राजीव गांधी के बारे में अनसुनी बातें जानना चाहते हैं. यूजर्स की इसी तलाश का ख्याल रखते हुए राजीव गांधी और उनके दोस्त अमिताभ बच्चन के जीवन से जुड़ी एक ऐसी कहानी साझा कर रहे हैं, जो शायद आपको नई लगे. यूं तो अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) और राजीव गांधी बचपन से ही दोस्त थे, दोनों एक-दूसरे से जब कभी मिलते तो मौज-मस्ती के साथ सुख-दुख की सारी बातें शेयर करते. बताया जाता है कि राजीव गांधी जब महज चार साल के थे तभी अमिताभ बच्चन से उनकी मुलाकात हुई थी. राजीव ने पहली बार अमिताभ को अपनी मां इंदिरा गांधी के गोद में देखा था. मां इंदिरा ने दोनों बच्चों की दोस्ती कराई जो आगे चलकर मिसाल बनी.
ये भी पढ़ें: राजीव गांधी: ऐसे नेता जो भारत में लेकर आए कंप्यूटर
कहते हैं दोस्त किसी भी मुश्किल घड़ी में अपने दोस्त के काम आता है. ऐसा ही कुछ राजीव और अमिताभ की दोस्ती में देखने को मिला था. तीन साल के लंबे लव अफेयर के बाद राजीव गांधी ने सोनिया गांधी से शादी करने का फैसला लिया था. मां इंदिरा गांधी भी इस रिश्ते के लिए तैयार हो गई थीं. शादी के लिए 1968 में सोनिया गांधी पहली बार भारत आईं. हालांकि उनके साथ परिवार के दूसरे लोग इटली से नहीं आए थे. ऐसे में इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के सामने सबसे बड़ी समस्या यह थी कि आखिर शादी को कैसे संपन्न कराया जाए, क्योंकि भारतीय रीति-रिवाज में शादी के दौरान दुल्हन को उसके पिता दान करने की रस्म को निभाते हैं.
ये भी पढ़ें: राजीव गांधी हत्याकांड की फिर से जांच की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से मांगा जवाब
इस बात को लेकर राजीव गांधी काफी परेशान थे, तभी वे इस समस्या को लेकर अपने सबसे अच्छे दोस्त अमिताभ बच्चन के घर पहुंचे. अमिताभ ने दोस्त राजीव की समस्या अपनी मां तेजी बच्चन और पिता हरिवंस राय बच्चन के सामने बयां की. साथ ही अमिताभ ने सुझाव दिया कि क्यों न सोनिया गांधी की शादी इसी घर में कराई जाए? अमिताभ का यह सुझाव सभी का पसंद आया.
वीडियो: राजनीति में कैसे आये राजीव?
सोनिया गांधी जब दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर 13 जनवरी 1968 को आईं तो अमिताभ बच्चन भी राजीव गांधी के साथ उन्हें रिसीव करने पहुंचे थे. भारतीय परंपरा के तहत सोनिया गांधी शादी के बिना राजीव के घर जा नहीं सकती थीं, इसलिए वह अमिताभ के घर पर ही ठहरीं. सोनिया 45 दिनों तक अमिताभ बच्चन के घर पर रहीं. बाद में अमिताभ बच्चन के घर में ही राजीव गांधी बारात लेकर पहुंचे. हरिवंश राय बच्चन ने सोनिया गांधी का कन्यादान किया. इस तरह सोनिया गांधी और राजीव गांधी की शादी अमिताभ बच्चन के घर पर संपन्न हुई. हमारे देश में लड़की का घर दूल्हे का ससुराल कहलाता है. ऐसे में कहा जा सकता है कि अमिताभ बच्चन का घर राजीव गांधी का सुसराल बना था

By Jitendra Arora

- एडिटर, मोटिवेटर, क्रिएटर | - वेब & एप डेवलपर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *