इंदौर से एक करोड़ का सोना लेकर भागा बंगाली कारीगर गिरफ्तार

इंदौर। क्राइम ब्रांच ने एक करोड़ का सोना लेकर भागे बंगाली कारीगर और उसके भानजे को गिरफ्तार किया है। उसने सराफा के प्रतिष्ठित व्यापारियों को सोना बेच दिया था। पुलिस ने आरोपियों से 40 लाख रुपए का सोना बरामद कर लिया है। मुख्य आरोपी बंगाली कारिगर एसोसिएशन के एक पदाधिकारी का भाई है।
डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के मुताबिक आरोपी मुज्जमील उर्फ बादशाह शेख निवासी पश्चिम बंगाल सराफा में सोना-चांदी के आभूषण बनाने का काम करता था। सराफा के बड़े ज्वेलर्स लाखों रुपए का सोना उसे देते थे। वर्ष 2011 में आरोपी ने कई ज्वेलर्स से तीन किलो सोना एकत्रित किया और रातोंरात फरार हो गया।
पुलिस ने घनश्याम सोनी की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया और जांच के नाम पर मामला दबा दिया। गुरुवार को सूचना मिली मुज्जमील भाई यासिन उर्फ यास्मिन से मिलने इंदौर आया है। उसके मोबाइल की लोकेशन निकाली और घेराबंदी कर पकड़ लिया।
पूछताछ में बताया वारदात में भानजा माबूद का नाम भी कबूल किया। पुलिस ने माबूद को गिरफ्तार कर दोनों से 40 लाख रुपए कीमती 1 किलो 50 ग्राम सोना बरामद कर लिया। आरोपियों ने सोना बेचकर मकान खरीद लिए थे। व्यापारियों से लिया लाखों रुपए का कर्जा भी चुका दिया था। पुलिस ने कुछ व्यापारियों से भी पूछताछ की है। उन्होंने माबूद के जरिए सोना खरीदा था।

सूदखोरों के कारण भागा,भानजे ने ठग लिया
टीआई अनिलसिंह चौहान के मुताबिक बादशाह 1982 से भाई मो.हनीफ के साथ आभूषण बनाने का काम कर रहा था। कुछ समय बाद हनीफ से अलग होकर काम करने लगा। जेवर बनाने में लाखों रुपए कमाए और वर्ष 2009 में विजय राठी से फ्लैट खरीद लिया। जिस पर करीब 6 लाख रुपए का लोन लिया था।

आभूषण निर्माण और फीनिशिंग के लिए भानजे माबूद,लालटू सहित आठ लोगों को काम पर रख लिया। मकान की किस्त और कर्मचारियों का वेतन देने में 12 लाख रुपए का कर्जा हो गया। कर्जा चुकाने के लिए मुन्नाा भाई (चंदन टॉवर) से 4 लाख, लल्ला भाई(चंदन टॉवर) से 4.5 लाख, बाबू भाई(आजादनगर) से 2 लाख से 5 प्रतिशत की दर से उधार लिए थे। सूदखोरों को ब्याज चुकाने में कर्जा और बढ़ता गया।
3 दिसंबर को भानजे माबूद के साथ सोना लेकर भागने की साजिश रचि और स्कॉर्पियों से फरार हो गया। सोना माबूद ने रख लिया। उसने कहा व्यापारियों के पास हिसाब नहीं रहता है। कुछ दिनों बाद आधी कीमत में समझौता कर लेंगे। बादशाब फरार होकर इलाहाबाद,लखनऊ, बाराबंकी,देवाशरीफ,आसनसोल,धर्मशाला,कोलकता में छुपता रहा। माबूद ने कुछ दिनों तक रुपए पहुंचाए इसके बाद बंद कर दिए। टीआई के मुताबिक आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

पैसे कैसे कमायें ? Paise Kaise Kamaye