हाल में गोरखपुर के एक अस्पताल में बच्चों की मौतों के कारण विवादों में रहे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है, “अगर मैं सड़क पर ईद के दिन नमाज़ पढ़ने से रोक नहीं लगा सकता तो मुझे कोई अधिकार नहीं कि मैं थानों में जन्माष्टमी के पर्व को रोकूं… मुझे इसका कोई अधिकार नहीं है.”
ये ख़बर छापी है अख़बार एक ‘इंडियन एक्सप्रेस’ ने.
अख़बार के अनुसार आरएसएस के सहसरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले भी इस कार्यक्रम में मौजूद थे. योगी ने कहा, “कांवड़ यात्रा पर अधिकारियों ने मुझे बताया कि यात्रा में माइक्रोफ़ोन, डीजे और म्यूज़िक सिस्टम पर रोक लगाई जाएगी तो मैंने उनसे ये उनसे ये सुनिश्चित करने के लिए कहा कि माइक्रोफोन का इस्तेमाल प्रतिबंधित है और किसी भी पूजास्थल से ध्वनि प्रदूषण नहीं होना चाहिए.”
योगी बताया कि इस पर उन्होंने अधिकारियों से कहा था, “मैंने कहा कि अफसर ये सुनिश्चित ये कांवड़ यात्रा है कि शव यात्रा? अरे कांवड़ यात्रा में बाजे नहीं बजेंगे, डमरू नहीं बजेंगे, ढोल नहीं बजेंगे, चिमटे नहीं बजेंगे, लोग नाचेंगे-गाएंगे नहीं, माइक नहीं बजेगा तो वो यात्रा कांवड़ यात्रा कैसे होगी?”
उन्होंने कहा कि भारत में सभी धर्म को लोगों को अपनी आस्था का पालन करने की आज़ादी है

By Jitendra Arora

- एडिटर, मोटिवेटर, क्रिएटर | - वेब & एप डेवलपर |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *