[email protected]
July 02, 2022
11 11 11 AM

श्री हरि समाज कल्याण वृद्धा आश्रम सोसाइटी ने नेपाल भूकंप पीडितो को दी मदद

शेयर जरुर करें

रूद्रपुर –  विगत माह अप्रेल में नेपाल में आई भूकम्प त्रासदी से
पीडित लोगों के सहायतार्थ आज कलक्टेªट परिसर से वरिश्ठ पुलिस अधीक्षक
नीलेश आनन्द भरणें एवं अपर जिलाधिकारी दीप्ति वैष्य ने श्री हरि समाज
कल्याण वृद्धा आश्रम सोसाइटी द्वारा प्रदत्त राहत सामग्री से भरे ट्रक को
नेपाल के लिये हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। 
सोसाइटी
के अध्यक्ष सुभाष चन्द्र दास व सचिव उत्तम कुमार धरामी ने बताया कि समाज
सेवा के कार्यो के लिये हमारी सोसाइटी हमेशा तत्पर रहती है। उन्होंने कहा
कि विपदा में फंसे लोगों की सहायता करना पुण्य का कार्य है जिसके लिये
हमारी संस्था के पदाधिकारी व अन्य लोग सदैव तैयार रहते है। उन्होंने बताया
कि आज भेजी जा रही राहत सामग्री में दाल,चावल,आटा,नमक,वस्त्र,गुड,चना सहित दैनिक उपयोग सामग्री के लगभग 110 किट नेपाल के लिये भेजे गये है। 
इस
अवसर पर अपर जिलाधिकारी दीप्ति वैष्य ने कहा कि भूकम्प पीडितों के लिये
विभिन्न संस्थाओं व व्यक्तियों द्वारा जो राहत सामग्री अथवा धनराशि भेजी जा
रही है यह एक सराहनीय कदम है उन्होंने अन्य संस्थाओं व लोगों से आग्रह
किया कि वह इस प्रकार की संस्थाओं के कार्यो के प्रेरणा लेकर भूकम्प
पीडितों की सहायता के लिये आगे आये। 
 
जिला
आपदा प्रबन्धन अधिकारी डाॅ0 अनिल शर्मा ने बताया कि गत माह से अब तक नेपाल
के भूकम्प पीडितों की सहायतार्थ जनपद से लगभग 50 लाख से अधिक की राहत
सामग्री जिसमें टैण्ट,कपडे,दवायें,खाद्य पदार्थ आदि भेजे गये है । इसके
अलावा लगभग 20 लाख की धनराशि मुख्य मंत्री राहत कोशके जरिये नेपाल भेजी जा
चुकी है। 
इस मौके
पर एसएसपी नीेलेश आनन्द भरणें,अपर जिलाधिकारी दीप्ति वैष्य,जिला आपदा
प्रबन्धन अधिकारी डाॅ0 अनिल षर्मा,पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मीना शर्मा के
अलावा एडवोकेट अनिल शर्मा सहित सुभाश चन्द्र दास,उत्तम कुमार धरामी ,शिवपद
सरकार,उमाषंकर,गौरंग मंण्डल,ललित मोहन जोशी,अनून कुमार मण्डल,नारायन चन्द्र
मण्डल,सुषांत मण्डल,सन्तोश कुमार आर्य,निमाई सरकार,हरीश कुमार,दीपान सिंह
आर्य,राजेन्द्र प्रसाद सुजैया,सुरेश करतुनिया आदि लोग मौजूद थें।
इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

शेयर जरुर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.