सीमान्त क्षेत्र विकास निधि का इस्तेमाल जनता के हित के लिए हो

रूद्रपुर  – जिलाधिकारी डा0 पंकज कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में
कलेक्ट्रेट सभागार में सीमान्त क्षेत्र विकास निधि के अन्तर्गत किये जाने
वाले कार्यों की समीक्षा की गई। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिए
कि सीमान्त क्षेत्र विकास निधि के अन्तर्गत उन योजनाओं का चयन किया जाये
जिससे अधिक से अधिक लोंगों को फायदा मिल सके। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम
के अन्तर्गत सीमान्त क्षेत्रों में लोगों को स्वरोजगार उपलब्ध कराने हेतुु
जो भी कार्यक्रम चलाये जाते हैं सम्बन्धित विभाग उसकी समीक्षा कर यह
सुनिष्चित करे कि इससे कितने लोगों को स्वरोजगार मिला है। उन्होंने कहा कि
इस योजना के अन्तर्गत जो भी धनराशी मिल रही है उसका इस्तेमाल जनता के हित
के लिए किया जाए। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन विभागों
के पिछले वर्षश के कार्य अभी तक अधूरे हैं उन्हें शीघ्र पूर्ण कर उपभोग
प्रमाण पत्र प्रस्तुत करें। जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी इवा आशीष 
श्रीवास्तव को निर्देश दिए कि सीमान्त क्षेत्र विकास निधि के अन्तर्गत
उन्हीं विभागों को धनराशि दी जायं जो समय से कार्य पूर्ण कर सके।  उन्होंने
कहा कि जिन विभागों द्वारा सीमान्त क्षेत्रों में विकास कार्य किये जा रहे
हैं उन विभागों के विभागाध्यक्ष स्वयं क्षेत्र में जाकर कार्यों का
निरीक्षण करें। 
बैठक
में जीआईसी बग्घा में तीन लैब निर्माण, सरपुडा में बग्घाचैवन में 2.5 किमी
नाला निर्माण, सरपुडा व बग्घा चैवन में सोलर लाईट लगााने, सरपुडा में आंगन
बाडी केन्द्र निर्माण, सरपुडा में डेरी हेतु दुग्ध कक्ष बनाने, झनकईया
थाने हेतु बैरिक बनाने व सोलर लाईट लगाने, सरपुडा में प्रसव कक्ष बनाने की
स्वीकृति दी गई । जिलाधिकारी ने मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को निर्देेश दिए
कि सीमान्त क्षेत्रों के अन्तर्गत एक किमी के दायरे में जो सीसी मार्ग
बनने हैं, उन्हें सीमान्त क्षेत्र विकास निधि से बनाया जाये। उन्होंने कहा
कि विद्युत विभाग द्वारा जो कार्य कारपोरेषन से नहीं कराये जा सकते हैं,
सीमान्त क्षेत्रों में उन कार्यों को इस योजना में आच्छादित किया जायें।
जिलाधिकारी ने लोनिवि के अधिकारियों को निर्देष दिए कि सीमान्त क्षेत्रों
में जिन मार्गों का सुधारीकरण करना हैं उन्हें भी इस योजना में लिया जाये।
ज्ञात हो कि वर्श 2013-14 में सीमान्त क्षेत्र विकास निधि के अन्तर्गत जनपद
को 5 करोड़ 95 लाख 70 हजार की धनराषि अवमुक्त हुई थी। वर्श 2014-15 में इस
योजना के अन्तर्गत 4 करोड़ 70 लाख 27 हजार की धनराषि अवमुक्त हुई । इसमें
से अब तक 2 करोड़ 50 लाख की धनराषि खर्च कर ली गई है। 
बैठक
में सीडीओ इवा आशीष श्रीवास्तव, पीडी बालकृश्ण, सीएमओ एचके जोशी, अधिषासी
अभियन्ता लोनिवि केसी पन्त, ईई सिंचाई संजय राज, जिला शिक्षा अधिकारी
डा0पीएन सिंह, जीएम उद्योग बीआर आर्य सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी
उपस्थित थे। 
इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in

पैसे कैसे कमायें ? Paise Kaise Kamaye