नहीं रहे पद्मश्री तारक मेहता, ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ से खूब हंसाया

पॉपुलर कॉमेडी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के लेखक तारक मेहता का बुधवार को निधन हो गया. 89 साल के तारक मेहता ने अहमदाबाद में आखिरी सांस ली. 26 दिसंबर, 1929 को अहमदाबाद में तारक मेहता का जन्म हुआ था. 

क्यों मशहूर हुए थे तारक मेहता?
सब चैनल का यह पॉपुलर शो दरअसल, तारक मेहता के गुजराती नाटक पर आधारित है. 2015 में उनको पद्मश्री ने नवाजा गया था. तारक मेहता गुजराती रंगमंच का बड़ा नाम थे. कई मशहूर कॉमेडी नाटकों व कहानियों को गुजराती में पेश कर चुके हैं. वह कॉलम भी लिखते रहे हैं जिसकी शुरुआत उन्होंने 1971 में चित्रलेखा से की थी. बीते वर्षों में उनकी 80 किताबें बाजार में आ चुकी हैं. 

नहीं होगा अंतिम संस्कार, डोनेट कर चुके हैं बॉडी
बताया जा रहा है कि अंतिम संस्कार करने की बजाय तारक मेहता की बॉडी NHL मेडिकल कॉलेज को एनाटॉमिकल स्टडी के’जेठालाल’ ने जताया दुख 
‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ में जेठालाल का किरदार निभाने वाले दिलीप जोशी ने उनके निधन पर दुख जताया है. उन्होंने कहा- तारक मेहता के निधन से हम सभी उदास हैं. हमने एक बेहतरीन लेखक को खो दिया है. हमारे शो में हर किरदार चित्रलेखा में उनके लिखे अनुसार ही था. जब मैं वह पत्रिका पढ़ता था तो मैंने कभी जेठालाल के किरदार को निभाने के बारे में नहीं सोचा था. अहमदाबाद जाने पर अक्सर उनसे मुलाकात होती थी. उनका सेंस ऑफ ह्यूमर इस उम्र में भी लाजवाब था.

पैसे कैसे कमायें ? Paise Kaise Kamaye