[email protected]
May 25, 2022
11 11 11 AM

स्किल डेवलपमेंट मिशन

शेयर जरुर करें

केन्द्र व राज्य सरकार की लाभदायक योजनायें

दिनांक 5 फरवरी 2015

www.insidecoverage.in

ग्रास एकेडमी ट्रेनर प्रेम अरोड़ा की
राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन पर विशेष जानकारी


पूरे उत्तराखण्ड में राष्ट्रीय शहरी
आजीविका मिशन कार्यक्रम
16 स्थानों पर चलाया
जा रहा है। जिसमें उत्तराखण्ड के सभी मुख्यालयों सहित नगर निगम भी शामिल हैं। इन
नगर निगमों में काशीपुर
रुद्रपुर–  हल्द्वानी भी शामिल हैं। यह अत्यन्त महत्तवपूर्ण योजना है
जो सूडा यानि स्टेट अर्बन डेवलपमेंट एजेन्सी के माध्यम से चलायी जा रही है। इसमें
कौशल विकास प्रशिक्षण विभिन्न ट्रेडस में दिया जा रहा है जिसमें से रिटेल
ब्यूटीशियन- कम्प्यूटर में डाटा एण्टरी आॅपरेटरटैलीडीटीपी- नाॅन वायस वीपीओवायस वीपीओ आदि प्रमुख हैं। इसमें 18  से 35 वर्ष के नगर
क्षेत्र के वह बेरोजगार भाग ले सकते हैं जिनको रोजगार की जरूरत है अथवा स्वयं
सहायता समूह या बैंक से त्रृण लेकर अपनी आजीविका चलाना चाहते हों। काशीपुर में ग्रास एकेडमी ने 10
सेंटर चिन्हित किये
हैं जिनको
5 फरवरी तक फाइनल टच
दे दिया जायेगा। लड़कियों के लिए अलग से कैंपस बनाया जा रहा है तांकि
लड़कियां/महिलायें सुरक्षित वातावारण में अच्छी तरह से प्रशिक्षण ले सकें। राज्य
सरकार से वर्क आर्डर मिलते ही कार्य कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारम्भ हो
जायेगा।
ग्रास एकेडमी के पास और भी अनेक प्रोजेक्ट
है जिनके लिए ईमानदार-
समर्पित बिजनेस
एसोसिएटस चाहिये जिनके पास अपना कम से कम  2
क्लासरूम व 1  प्रेक्टीकल लैब का सेटअप हो। यह 60 लाभार्थियों के लिए मान्य होगा। काशीपुर में 900  के करीब लाभार्थियों का पंजीकरण हो चुका है। शीघ्र ही
फाइनल काउंसलिंग के बाद लाभार्थियों की कौशल विकास प्रशिक्षण की शिक्षा प्रारम्भ
हो जायेगी।
किसी भी तरह की सहायता के लिए आप प्रोजेक्ट
कोआर्डीनेटर शिवम् शुक्ला को उनके मोबाइल नंबर
7534875754 पर सम्पर्क कर सकते हैं अन्यथा हमें ई.मेल कर सकते हैं
[email protected]

इन्टरवियू-
प्रेम अरोरा
 
आजकल देश
में स्किल डेवलेपमेंट की चर्चा चरों तरफ है, क्योंकि इससे देश में रोजगार का सर्जन
होगा,
सरकार ने स्किल डेवलपमेंट के लिए कई योजनाये आरम्भ की हैं, जिसमे राष्ट्रीय
शहरी आजीविका मिशन कार्यक्रम एक बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है, उतराखंड में भी इस
योजना को चलाया जा रहा है, इस योजना से जुड़े पूर्व छत्रा नेता और पेशे से पत्रकार प्रेम
अरोरा का इनसाइड कवरेज द्वारा इंटरवियु लिया गया, जिसके मुख्य अंश –
Q. 
अपने आरंभिक जीवन पर प्रकाश डालिए। 

A. मेरा जन्म पंज आब की पवित्र भूमि पंजाब के मोगा जिले के एक छोटे से गाँव
राऊके कला, तहसील-बधनी कला में हुआ था, मैं एक गाँव के स्कूल में पढता था, पहली
कक्षा से १०वीं कक्षा तक मैं अपनी क्लास का मोनिटर रहा, मेरे अध्यापक गण जो मुझे  बोलते थे में उनका हमेशा पालन करता था, मेरे
पापा जी श्री संत लाल जी अपने गाँव में एक जानीमानी हस्ती थे, हमारा थोक का
व्यापार था, मेरे पापा एक हंसमुख इंसान थे, वैसी आदत मेरे अन्दर आ गई,  पापा जी के सुरजीत सिंह बरनाला से बहुत नजदीकी
रिश्ते थे,(सुरजीत सिंह बरनाला जो उत्तराखंड के प्रथम राज्यपाल थे) वो मुझे हमेशा
उत्साहित करते थे , मेरे पापा संत भी थे, इस नजरिये से कि वो सबका हित चाहते थे,
मेरे पापा जी चाहते थे ………… अगले अंक में  
Q. 
अपने जीवन का उद्देश्य बताइए ?
A. 
मेरे जीवन का उद्देश्य दूसरों का भला करते जाइए आपका भला स्वयं हो जायगा,
उत्तराखण्ड में राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन कार्यक्रम के बारे बताइए ?
आपकी वेबसाइट पर पहले ही प्रकाशित है . अगर फिर भी कोई भी प्रश्न बचता हो तो
कृपया मुझे एस एम् एस करें
– 9999102912 

Q. आप राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन कार्यक्रम से कैसे जुड़े ?

A. 
मेरे मित्र श्री आशीष सक्सेना ने बताया कि आप समाज सेवा से जुड़े हुए हो आपका
नेटवर्क भी अच्छा है आपके दोस्त भी अच्छे हैं, आप इस कार्यक्रम से जुड़िये, श्री
आशीष जी मेरे विश्वसनीय मित्र है इसीलिए में उनकी बात मानकर इस कार्यक्रम में हूँ
.

Q. 
राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन कार्यक्रम में आपका क्या कार्य है ?
A. 
इस कार्यक्रम में मैं ग्रास अकेडमी की ओर से एक ट्रेनर के रूप में हूँ ,
परन्तु मेरा लक्ष्य है की जो भी लाभार्थी इस कार्यक्रम के माध्यम से मेरे साथ जुड़े
वो कभी भी अपने जीवन में निराश ना हो और हमेशा मुस्कुराता रहे, और उसको इस योजना
के माध्यम से मिलने वाले सभी लाभों का फायदा मिले, जो भी लोग इस कार्यक्रम में
आयंगे उन के लिए में हर पल तैयार हूँ. मुझे लगता है की इससे बढ़कर कोई भी सरकारी
योजना उनके जीवन में आने वाली नहीं है . इसलिए कृपया अपने अमूल्य जीवन ओर इस
अमूल्य योजना का लाभ लेकर अपने व अपने अभिभावकों के जीवन को ख़ुशी से भरा एक पथ
पर्दार्शिक करे,
Q. 
राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन कार्यक्रम से युवाओं को क्या लाभ होगा। 
A. 
जितने भी युवा इस कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं अथवा जुड़ेंगे उन सभी को रोज़गार
मिलेगा , अगर फिर भी किसी को रोजगार नहीं मिल पाया तो वो मुझसे व्यक्तिगत रूप से
insidecoverage.in के माध्यम से मुझे सन्देश पहुंचायगा में उसकी हर प्रकार से
सहायता करूँगा . 
Q. 
युवाओं के लिए कोई सन्देश जिससे उन्हें भविष्य में लाभ हो ?
A. 
मेरे युवा साथी अपने जीवन में कभी निराश ना हों, ऊपर वाला हमारे लिए जो भी
करता है अच्छा ही करता हैं,  आप हमेशा
हस्ते रहें और मुकुराते रहे, हमारी राह में लाखों कांटे भी आये तो उनको फूल समझकर
स्वीकार करें, जीवन में कभी भी कोई परेशानी आये 
तो उसको हंसकर टाल दें, सफलता आपको अपनी किस्मत से नहीं  बल्कि मेहनत से ही मिलती है, ना ही अपने जीवन
में तेज दौड़े, ना ही रुकें, आपके जीवन का लक्ष्य यह होना चाहिए कि आप लगातार चलते
रहो, सफलता आपके कदमो में होगी.

Q. 
अपके भविष्य की क्या योजनाये हैं ?
A. 
उत्तराखंड में दो मंडलों गढ़वाल एवं कुमाऊं में 13 जिले हैं, और उत्तराखंड में
16 स्थानों पर पहली बार काम करने का अवसर मिला हैं, उत्तराखंड देवभूमी धरती है
जिसमे महाभारत की रचना हुई है अनेक ऋषि मुनियों ने यहाँ पर तप किया है सम्पूर्ण
उत्तराखंड में पलायन अपने आप में एक भयंकर समस्या है इसको दूर करने के लिए तरह तरह
की बातें की जाती हैं, परन्तु अपने उत्तराखंड के प्रति मेरी योजना यह है कि कोई भी
नौजवान यहाँ की पावन धरती से पलायन ना करे, बेटी पढाओ बेटी बचाओ में उत्तराखंड
नंबर एक पर आये, हर उत्तराखंडी प्रसन्नचित्त रहे मेरा उत्तराखंड खुशाल रहे, ताकि
मेरा भारत भी खुशहाल हो सके ये मेरी कामना है,
Q. 
इनसाइड कवरेज के लिए अपनी कोई राय दीजिये ?
A. 
इनसाइड कवरेज का एक विजिटिंग कार्ड मुझे मिला जिसको मेने पहली बार पढ़ा और रखकर
भूल गया, दूसरा विजिटिंग कार्ड मुझे एक कार्यक्रम के दौरान मिला परन्तु उस
विजिटिंग कार्ड को में महत्व नहीं दे पाया, तीसरी बार भी कार्ड मुझे मिला कार्ड
देखा देखा सा लगा परन्तु कोई बात नहीं कर पाया, लगभग 10 -12 बार यह कार्ड मेरे
सामने आया और ऐसे ही होता रहा, एक सरकारी कार्यक्रम के दौरान एक बहुत ही अच्छे और
इमानदार अधिकारी ने इनसाइड कवरेज का कार्ड मुझे दिया तो मेने उसको संभाल कर रख
लिया, रात को लगभग 11 बजे के बाद में अपने घर पर पहुंचा तो मैंने उस कार्ड पर दिए
हुए नम्बरों को डायल किया तो मुझे महसूस हुआ कि इनसाइड कवरेज मुझसे भी ज्यादा आप
लोगों की फिकर करता हैं और इसी का परिणाम है की मेरा प्रथम साक्षात्कार इनसाइड
कवरेज पर प्रकाशित हो रहा है, इनसाइड कवरेज से भी पहले में धन्यवाद करना चाहूँगा
उस उच्च अधिकारी का जिन्होंने मेरी मुलाकात इनसाइड कवरेज की टीम से करवाई, 
इस कार्यक्रम में प्रशिक्षण लेने वाले मेरे प्यारे विद्यार्थीयो आप अपनी मेहनत
करते रहे आपको बहुत जल्दी आपके मनचाही मंजिल मिल जायगी ,

 

इनसाइड कवरेज न्यूज़ – www.insidecoverage.in, www.kashipurcity.com, www.adpaper.in


शेयर जरुर करें